मौर्य साम्राज्य का इतिहास |

मौर्य काल की शुरुआत | मौर्य साम्राज्य का प्रारम्भ | (Started Maurya Vansh) 

 

 ईसा पूर्व 326 में सिकन्दर की सेनाएँ पंजाब

के विभिन्न राज्यों में विध्वंसक युद्धों में व्यस्त थीं। मध्य प्रदेश और बिहार में नंद वंश का राजा धनानंद शासन कर रहा था। सिकन्दर के आक्रमण से देश के लिए संकट पैदा हो गया था। का सौभाग्य था कि वह इस आक्रमण से बच गया। यह कहना कठिन है कि देश की रक्षा का मौक़ा पड़ने पर नंद सम्राट यूनानियों को पीछे हटाने में समर्थ होता या नहीं। मगध के शासक के पास विशाल सेना अवश्य थी किन्तु जनता का सहयोग उसे प्राप्त नहीं था।

 

 

CSK VS DC IN IPL 2020

 

प्रजा उसके अत्याचारों से पीड़ित थी। असह्य आवश्यकता थी जो मगध साम्राज्य की रक्षा तथा वृद्धि कर सके। विदेशी आक्रमण से उत्पन्न संकट 

कर-भार के कारण राज्य के लोग उससे असंतुष्ट थे। देश को इस समय एक ऐसे व्यक्ति की जरूरत थी की विभिन्न भागों को एक शासन-सूत्र में बाँधकर चक्रवर्ती सम्राट के आदर्श को चरितार्थ करे। शीघ्र ही राजनीतिक मंच पर एक ऐसा व्यक्ति प्रकट भी हुआ। इस व्यक्ति का नाम था 'चंद्रगुप्त'। जस्टिन आदि यूनानी विद्वानों ने इसे 'सेन्ड्रोकोट्टस' कहा है। विलियम जॉन्स पहले विद्वान थे जिन्होंने सेन्ड्रोकोट्स' की पहचान भारतीय ग्रंथों के 'चंद्रगुप्त' से की है। यह पहचान भारतीय इतिहास के तिथिक्रम की आधारशिला बन गई है।

 

क्या आप जानते हैं.. 

 

मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की थी?. 

(Who established maurya samrajya).

 

-मौर्य साम्राज्य की स्थापना चंद्रगुप्त मौर्य ने की थी. 

-( maurya samrajya were established by Chandragupta maurya). 

 

 

मौर्य साम्राज्य भारत के इतिहास मे सबसे पहला बड़ा साम्राज्य था(The first Greatest Dynasties of Indian History ) । यह प्राचीन भारत का एक शक्तिशाली और महान राजवंश था। मौर्य वंश ने भारत पर 321 ई० पू० से 185 ई० पू० यानी लगभग 137 सालों तक शासन किया। इस वंश की स्थापना चन्द्रगुप्त मौर्य ने की थी।

 

 

 

 

मौर्य वंश शासकों की सूची

Maurya Empire Maurya dynasty kings